प्रधानमंत्री विश्वकर्मा योजना के फायदे युवाओं के लिए मौका! 500 रुपये दैनिक भत्ता, 3 लाख रुपये तक ऋण, आवेदन कैसे करें ? जाने विस्तार से…

इस Post को आप Share भी कर सकते हैं 👇

Prdhanmantri Vishvakarma Yojana : आज हम जानेंगे प्रधानमंत्री विश्वकर्मा योजना के फायदे युवाओं के लिए मौका! 500 रुपये दैनिक भत्ता, 3 लाख रुपये तक ऋण, आवेदन कैसे करें ? सरकार द्वारा लोगों के लिए विभिन्न कई तरह के जनकल्याणकारी योजनाएं चलाई जा रहे हैं। चाहे वह राज्य स्तर पर हो या केंद्र स्तर पर मजदूरों के लिए किसानों के लिए महिलाओं के लिए युवाओं के लिए अनेक तरह-तरह के जो योजनाएं देश में चलाए जा रहे हैं। लेकिन इस बार देश के युवाओं के कौशल हुनर पारंपरिक व्यापारों को लेकर एक नया योजना का शुरुआत किया गया है। जिसके तहत लाभार्थियों को योजना का लाभ तो मिलेगा ही इसके साथ-साथ सरकार की ओर से लाभार्थियों के लिए ऋण का भी व्यवस्था किया गया है। जिसके तहत देश के युवा अपने कौशल हुनर काबिलियत और पारंपरिक व्यापारों से आगे बढ़ते हुए आर्थिक रूप से सक्षम हो सकता है। एक तरह से सरकार ऐसे लोगों को मदद करना चाहती है जिनके पास हुनर तो है पारंपरिक कार्य है लेकिन उस हुनर को व्यवसाय में बदलने के लिए उनके पास पैसे की कमी होती है। 

ऐसे में सरकार उन लोगों के लिए प्रधानमंत्री विश्वकर्मा योजना के तहत सहायता देना चाहती है। जो अपने काबिलियत के साथ व्यवसाय करना चाहते हैं। इसलिए इस योजना का नाम प्रधानमंत्री विश्वकर्म योजना रखा गया है जिसके तहत विभिन्न 18 ग्रेड को शामिल किया गया है जो कि आज आगे हम जानेंगे की कौन-कौन से ग्रेड हैं और किस तरह से योजना के तहत लोगों को लाभ मिलेगा। प्रधानमंत्री विश्वकर्मा योजना के फायदे युवाओं के लिए मौका! 500 रुपये दैनिक भत्ता, 3 लाख रुपये तक ऋण, आवेदन कैसे करें ? प्रधानमंत्री विश्वकर्मा योजना के तहत ऋण का क्या? व्यवस्था है। और योजना के लाभ लेने के लिए आवेदन आप इसमें कैसे ? कर सकते हैं कौन-कौन से डॉक्यूमेंट लगेंगे? कितने रुपए तक का आर्थिक सहायता या ऋण मिल सकता है? इसके बारे में आज जानने वाले हैं। साथ ही प्रधानमंत्री विश्वकर्म योजना का उद्देश्य मापदंड लाभ और योजना की विशेषता के बारे में विस्तार से जानने वाले हैं तो आप इस पोस्ट पर बने रहिएगा।

प्रधानमंत्री विश्वकर्मा योजना के खासियत विशेषता : 

प्रधानमंत्री विश्वकर्मा योजना में चाहे शहरी इलाकों में रहते हैं या फिर ग्रामीण क्षेत्रों में, अगर आप पात्र हैं तो फिर आप सरकारी योजनाओं का लाभ ले सकते हैं। इन योजनाओं को जरूरतमंद और गरीब वर्ग तक लाभ पहुंचाने के लिए चलाया जाता है। प्रधानमंत्री विश्वकर्मा योजना 17 सितंबर को केंद्र सरकार की तरफ से शुरू की गई। इस योजना का नाम प्रधानमंत्री विश्वकर्मा कौशल सम्मान योजना है। इस योजना के अंतर्गत 18 पारंपरिक व्यापारों को शामिल करके उन्हें लाभ देने की कोशिश की गई है।

इसे भी पढ़ें -  छत्तीसगढ़ में पहले शुरू होंगे ये बड़े योजना.. इन लोगों के बैंक खाता में आएंगे पैसा.. Cg new Sarkari Yojana 2024 Benefits 

सरकार की तरफ से 3 लाख रुपये का ऋण सहायता : 

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने पीएम विश्वकर्मा कौशल सम्मान योजना की शुरुआत की है। इस योजना के तहत पात्र लोगों को सरकार की तरफ से 3 लाख रुपये का ऋण 5 प्रतिशत रियायती ब्याज दर पर उपलब्ध कराया जाएगा। पहले चरण में पात्र व्यक्तियों को एक लाख रुपये का ऋण दिया जाएगा, जबकि दूसरे चरण में 2 लाख रुपये तक का लोन लिया जा सकता है। जिससे हितग्राही अपने पारंपरिक व्यापारों को आगे और बढ़ा सकता है। 

 

प्रधानमंत्री विश्वकर्मा योजना प्रशिक्षण व दैनिक भत्ता :

हितग्राहियों को इस योजना के तहत कौशल सत्यापन के बाद 5 दिवसीय बुनियादी प्रशिक्षण तथा 15 दिन या उससे अधिक उन्नत प्रशिक्षण  दिया जाएगा। प्रशिक्षण में 500 रुपये का दैनिक भत्ता देने का प्रावधान है। टूलकिट प्रोत्साहन के रूप में 15,000 रुपये का अनुदान देने की सुविधा है। डिजिटल लेनदेन के लिए प्रोत्साहन के रूप में प्रतिमाह अधिकतम 100 रूपए के लेनदेन के लिए प्रति लेनदेन 1 रुपए निर्धारित है। 

प्रधानमंत्री विश्वकर्मा योजना के लिए पात्रता व मापदंड : 

1. स्व-रोज़गार के आधार पर असंगठित क्षेत्र में हाथ और औजारों से काम करने वाला और योजना में उल्लिखित 18 परिवार-आधारित पारंपरिक व्यवसायों में से एक में लगे एक कारीगर या शिल्पकार, पीएम विश्वकर्मा के तहत पंजीकरण के लिए पात्र होंगे।

2. पंजीकरण की तिथि पर लाभार्थी की न्यूनतम आयु 18 वर्ष होनी चाहिए।

3. लाभार्थी को पंजीकरण की तिथि पर संबंधित व्यापार में संलग्न होना चाहिए और स्व-रोजगार/व्यवसाय विकास के लिए केंद्र सरकार या राज्य सरकार की समान क्रेडिट- आधारित योजनाओं, जैसे पीएमईजीपी, पीएम स्वनिधि, मुद्रा, के तहत ऋण नहीं लेना चाहिए। पिछले 5 वर्षों में.

4. योजना के तहत पंजीकरण और लाभ परिवार के एक सदस्य तक ही सीमित रहेगा। योजना के तहत लाभ प्राप्त करने के लिए, एक ‘परिवार’ को पति, पत्नी और अविवाहित बच्चों के रूप में परिभाषित किया गया है।

5. सरकारी सेवा में कार्यरत व्यक्ति और उनके परिवार के सदस्य इस योजना के तहत पात्र नहीं होंगे।

प्रधानमंत्री विश्वकर्मा योजना से मिलने वाले लाभ :

1. मान्यता: प्रमाण पत्र और आईडी कार्ड के माध्यम से विश्वकर्मा के रूप में पहचान

2. कौशल: कौशल सत्यापन के बाद 5-7 दिन (40 घंटे) का बुनियादी प्रशिक्षण। इच्छुक उम्मीदवार 15 दिन (120 घंटे) के उन्नत प्रशिक्षण के लिए भी नामांकन कर सकते हैं। प्रशिक्षण वजीफा: 500 रुपये प्रति दिन

3. टूलकिट प्रोत्साहन: हितग्राहियों को 15,000 रुपये अनुदान

4. क्रेडिट सहायताः संपार्श्विक मुक्त उद्यम विकास ऋणः । लाख रुपये (18 महीने के पुनर्भुगतान के लिए पहली किश्त) और 2 लाख रुपये (30 महीने के पुनर्भुगतान के लिए दूसरी किश्त) बी। ब्याज की रियायती दरः लाभार्थी से 5% लिया जाएगा और 8% की ब्याज छूट सीमा MOMSME द्वारा भुगतान की जाएगी। क्रेडिट गारंटी शुल्क भारत सरकार द्वारा वहन किया जाएगा

इसे भी पढ़ें -  छत्तीसगढ़ में प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना से इस जिले के 20 हजार महिलाओं को किया गया 7 करोड़ की राशि हस्तांतरित

5. डिजिटल लेनदेन के लिए प्रोत्साहनः अधिकतम 100 लेनदेन (मासिक) के लिए प्रति लेनदेन । रुपये

6. विपणन सहायताः राष्ट्रीय विपणन समिति (एनसीएम) गुणवत्ता प्रमाणन, ब्रांडिंग और प्रचार जैसी सेवाएं प्रदान करेगी। ई-कॉमर्स लिंकेज, व्यापार मेले विज्ञापन, प्रचार और अन्य विपणन गतिविधियाँ।

प्रधानमंत्री विश्वकर्मा योजना के उद्देश्य क्या है ?

पीएम विश्वकर्मा एक नई योजना है और इसमें पारंपरिक कारीगरों और शिल्पकारों को उनके पारंपरिक उत्पादों और सेवाओं को बढ़ाने में शुरू से अंत तक समग्र सहायता प्रदान करने की परिकल्पना की गई है। योजना के उद्देश्य नीचे दिए गए हैं:

1. कारीगरों और शिल्पकारों को विश्वकर्मा के रूप में मान्यता देना और उन्हें योजना के तहत सभी लाभ प्राप्त करने के लिए पात्र बनाना।

2. उनके कौशल को निखारने के लिए कौशल उन्नयन प्रदान करना और उनके लिए प्रासंगिक और उपयुक्त प्रशिक्षण अवसर उपलब्ध कराना।

3. उनकी क्षमता, उत्पादकता और उत्पादों की गुणवत्ता बढ़ाने के लिए बेहतर और आधुनिक उपकरणों के लिए सहायता प्रदान करना।

4. इच्छित लाभार्थियों को संपार्श्विक मुक्त ऋण तक आसान पहुंच प्रदान करना और ब्याज छूट प्रदान करके ऋण की लागत को कम करना।

5. इन विश्वकर्माओं के डिजिटल सशक्तिकरण को प्रोत्साहित करने के लिए डिजिटल लेनदेन के लिए प्रोत्साहन प्रदान करना।

6. विकास के नए अवसरों तक पहुंचने में मदद करने के लिए ब्रांड प्रचार और बाजार लिंकेज के लिए एक मंच प्रदान करना।

इन लोगों को मिलेगा प्रधानमंत्री विश्वकर्मा योजना का लाभ : 

जिला व्यापार एवं उद्योग केंद्र से मिली जानकारी के अनुसार इस योजना अंतर्गत 18 क्षेत्रों में कार्य करने वाले व्यक्ति इसका लाभ उठा सकते हैं। इनमें राजमिस्त्री, नाई, मालाकार, धोबी, दर्जी, ताला बनाने वाले, बढ़ई, लोहार, सुनार, अस्त्रकार, मूर्तिकार, पत्थर तराशने वाले, पत्थर तोड़ने वाले,  मोची/जूता बनाने वाला कारीगर, नाव निर्माता, टोकरी/चटाई/झाड़ू बनाने वाला, गुड़िया और खिलौना निर्माता, हथौड़ा और टूलकिट निर्माता, फिशिंग नेट निर्माता इस योजना का लाभ उठाने के लिए चॉइस सेंटर के माध्यम से पीएम विश्वकर्मा योजना पोर्टल पर पंजीकरण कर सकते है। इसके लिए आधार, मोबाइल नंबर, बैंक विवरण एवं राशन कार्ड की आवश्यकता होगी। 

इस योजना का लाभ लेने के लिए आयु 18 वर्ष पूर्ण होनी चाहिए। स्वरोजगार/व्यवसाय विकास योजनाओं के तहत हितग्राही ने पिछले 5 वर्ष में किसी भी शासकीय योजना अंतर्गत ऋण न लिया हो। योजना के तहत परिवार का एक ही सदस्य पात्र होगा। सरकारी सेवा में कार्यरत व्यक्ति और उनके परिवार के सदस्य योजना के लिए पात्र नहीं होंगे। इस संबंध में अधिक जानकारी के लिए राज्य के प्रत्येक जिला व्यापार एवं उद्योग केंद्र में कार्यालयीन समय पर संपर्क किया जा सकता है।

इसे भी पढ़ें -  इन मोबाइल एप से मतदाताओं को कई सुविधा.. ई-एपिक डाउनलोड, नाम जोड़ने, विलोपन, संशोधन और भी बहुत कुछ..

पीएम विश्वकर्मा योजना के लिए आवेदन कैसे करें ?

प्रधानमंत्री विश्वकर्म योजना के लिए आवेदन करने के लिए आपको अपने नजदीकी सीएससी वेली सेंटर चॉइस सेंटर से आप आवेदन कर सकते हैं। जिसको हम कॉमन सर्विस सेंटर भी बोलते हैं जो कि गांव गलियों में भी संचालित किया जाता है। लोगों को सरकारी योजना का लाभ मिले और लोग योजनाओं का जानकारी लेकर उसमें आवेदन कर सके। आवेदन प्रक्रिया आसान हो ऑनलाइन हो इसके मध्य नजर सरकार सीएससी सेंटर गांव गांव में शुरू की है। इसी के माध्यम से अगर आप पीएम विश्कर्मा योजना का लाभ लेना चाहते हैं तो आवेदन ऑनलाइन कर सकते हैं। 

आवेदन के लिए कौन कौन से दस्तावेज लगेगा ? 

प्रधानमंत्री विश्वकर्म योजना के लिए आवेदन करने के लिए कौन-कौन से दस्तावेज लगेंगे उसकी जानकारी भी होनी जरूरी है। मूलत: देखा जाए तो योजनाओं में आवेदन करने के लिए आधार कार्ड बैंक पासबुक और परिचय पत्र का होना जरूरी रहता है। तो कुछ इस तरह से इस योजना के लिए भी लोगों को आवेदन करने के लिए इन्ही दस्तावेजों का आवश्यकता होगी जिसमें मुख्यतः

1. आधार कार्ड, 2. पहचान पत्र(वोटर आईडी) 3. निवास प्रमाण पत्र, 4. जाति प्रमाणपत्र, 5. मोबाइल नंबर, 6. पासपोर्ट साइज फोटो, 7. बैंक अकाउंट पासबुक ।

◼️ योजना सम्बंधित ज्यादा जानकारी के लिए ऑफिसियल वेबसाइट पर जाएं https://pmvishwakarma.gov.in/

 

तो भइयों ये था प्रधानमंत्री विश्कर्मा योजना के पूरी जानकारी की किस तरह से आप आवेदन कर सकते हैं। इस योजना का उद्देश्य क्या है? इसका विशेषता क्या है? पीएम विश्वकर्मा योजना का लाभ क्या है? आवेदन कैसे कर सकते हैं ? कौन कौन से डॉक्यूमेंट लगेंगे ? ये सब के बारे में । 

तो चलिए उम्मीद करते हैं कि इस योजना के तहत लोगों को लाभ मिले परम्परागत व्यवसाय वाले ऐसे लोगों के लिए सरकार सहायता के लिए आगे हाथ बढ़ाया है लोग इसमें जुड़े योजना का लाभ लें और अपने व्यवसाय को आगे बढ़ाएं। प्रधानमंत्री विश्वकर्म योजना से जुड़ी अपडेटेड इनफॉरमेशन महत्वपूर्ण जानकारियां लगातार हम its chhattisgarh के माध्यम से आप लोगों को आगे भी पहुंचते रहेंगे इसलिए अपना प्यार और सपोर्ट चैनल के साथ बना कर रखिए।

तो भाई आप हमारे Youtube channel its chhattisagrh को subscribe करके रखिए साथ ही हमारा Teligram चैनल है उसको भी join करके रखिएगा।  इसके अलावा हमारा Whatsapp चैनल है। उसको भी आप join कर लीजिए इनका लिंक आप लोगों को ऊपर और नीचे post में दिख रहा होगा। 


इस Post को आप Share भी कर सकते हैं 👇
error: Content is protected !!